gadakari and chandrababu nayadu | Sarkarnama

चंद्राबाबू नायडू और रूडी ने की नितीन गडकरी से मुलाकात : राजनैतिक परिवेश में चर्चाओं का भँवर

सरकारनामा ब्युरो
गुरुवार, 19 ऑक्टोबर 2017

केंद्रीय मंत्रिमंडल से निकाले गये केंद्रीय कौशल विकास मंत्री राजीव प्रताप रूडी मंगलवार को केंद्रीय भूपृष्ठ परिवहन मंत्री नितीन गडकरी से रामनगर स्थित उनके भक्तिनिवास में मिले. दोनों नेताओं में लगभग एक घंटे तक बातचीत हुई. आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्राबाबू नायडू भी अचानक ही शाम को गडकरी से मिलने पहुँचे. इस बात को ले कर राजनैतिक परिवेश में चर्चायें जोरों पर हैं.

नागपुर :  केंद्रीय मंत्रिमंडल से निकाले गये केंद्रीय कौशल विकास मंत्री राजीव प्रताप रूडी मंगलवार को केंद्रीय भूपृष्ठ परिवहन मंत्री नितीन गडकरी से रामनगर स्थित उनके भक्तिनिवास में मिले. दोनों नेताओं में लगभग एक घंटे तर बातचीत हुई. आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्राबाबू नायडू भी अचानक ही शाम को गडकरी से मिलने पहुंचे. इस बात को ले कर राजनैतिक परिवेश में चर्चायें जोरों पर हैं.

इन दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोध में , पार्टी के अन्य नेताओं के मन में  बढती नाराजगी को देखते हुए गडकरी से इन नेताओं की मुलाकात को ले कर चर्चायें जोरों पर हैं. लेकिन गडकरी का कहना है कि, यह मुलाकात मात्र औपचारिक थी. प्रताप रूडी ने कहा, कि वे तो केवल दीपावली की शुभकामनायें देने के लिये गडकरी से मिले थे. गडकरी की नयी इमारत की पूजा का अवसर भी था. यह मुलाकात राजनैतिक थी ही नहीं.

रूडी भले ही इस मुलाकात के राजनैतिक होने से इन्कार करतें हों, लेकिन गौरतलब है कि, मंत्रिमंडल से निकाले जाने को ले कर भाजपा के कई नेता नाराज हैं. पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा खुलेआम केंद्रीय सरकार , खास कर  वित्तमंत्री के खिलाफ बोलते नजर आते हैं. शत्रुघ्न सिन्हा तथा अरुण शौरी  भी पार्टी के विरोध में बोलना शुरू कर चुके हैं. भाजपा के कई नेता नोटों पर पाबंदी तथा जी एस टी के खिलाफ निजी रूप से बोलने से नहीं चूकते. कुछ ही दिनों पहले पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण अडवानी , दशहरा समारोह के अवसर पर  सरसंघचालक से मिलने नागपुर गये थे. रूडी को उन्हीं के कट्टर समर्थक के रूप में देखा जाता है. वे अटल बबिहारी बाजपेयी के मंत्रिमंडल में नागरी उड्डयन मंत्री थे.

नितीन गडकरी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के कार्यकाल में रूडी महाराष्ट में प्रभारी थे. विधानसभा चुनाव उन्हीं के नेतृत्व में लडा गया था. कहा जाता है कि, केंद्रीय मंत्रिमंडल से हटाये जाने के कारण रूडी नाराज हैं.

ऐसे में एन. चंद्राबाबू नायडू का भी अचानक से नागपुर आ कर गडकरी से मुलाकात करना चर्चाओं को हवा देने वाला रहा. दोनों नेताओं का इस तरह  गडकरी से मिलना , मोदी सरकार के विरोध में फैले असंतोष की पृष्ठभूमी पर महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

संबंधित लेख